प्रभु से ज्योति और श्रुति की धारा निकलकर सृष्टि के समस्त मंडलों में जा रही है। — संत राजिन्दर सिंह जी महाराज