हमारी यात्रा का अंतिम पड़ाव है प्रभु में लीन होना, जो प्रेम और चेतनता के महासागर हैं। — संत राजिन्दर सिंह जी महाराज