संसार में मुश्किलें पैदा करने के लिए बहुत सारे लोग हैं। आइए हम ऐसे इंसान बनें जो दूसरों के बल पड़े माथे से शिकन दूर करते हैं। — संत राजिन्दर सिंह जी महाराज