प्रभु ने इंसानों को केवल प्रभु से प्रेम करने के लिये ही नहीं, बल्कि समस्त इंसानों से प्रेम करने के लिये भी बनाया है। — संत राजिन्दर सिंह जी महाराज