ध्यानाभ्यास में हम दुनिया का चैनल बंद करके प्रभु का चैनल खोल लेते हैं। — संत राजिन्दर सिंह जी महाराज