जिस प्रकार मछली पानी के बिना नहीं रह सकती, उसी प्रकार आत्मा भी परमात्मा के बिना नहीं रह सकती। — संत राजिन्दर सिंह जी महाराज