विश्व भर में प्रेम, एकता, और शांति स्थापित करने के लिए जो कुंजी है, जो पूर्व-आवश्यकता है, वो है प्रत्येक व्यक्ति के द्वारा आंतरिक शांति प्राप्त करना। — संत राजिन्दर सिंह जी महाराज