आंतरिक ज्योति और श्रुति पर ध्यान टिकाने के लिए पूर्ण एकाग्रता की ज़रूरत होती है। — संत राजिन्दर सिंह जी महाराज