ज़िंदगी वास्तव में एक चलता-फिरता तमाशा है आर आत्मा इसकी दर्शक है। — संत राजिन्दर सिंह जी महाराज