हम यहाँ देने, देने, और देने, तथा प्रेम करने, प्रेम करने, और प्रेम करने के लिए आए हैं। — संत राजिन्दर सिंह जी महाराज