जब हम जीवन की क्षणभंगुरता का अनुभव करते हैं, तो हम ऐसे प्रेम की तलाश करने लगते हैं जो कभी ख़त्म न हो। — संत राजिन्दर सिंह जी महाराज